कोरोना के खिलाफ़ की लड़ाई में “मेरा परिवार, मेरी ज़िम्मेदारी” अभियान महत्वपूर्ण शस्त्र साबित होगा - मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

 15 Sep 2020  675

मुंबई, (15 सितंबर 2020)- कोरोना के खिलाफ़ की लड़ाई में स्व:रक्षा यहीं एक आसान तरीका है। नागरिकों को स्व:रक्षा का महत्व बताने के लिए “मेरा परिवार, मेरी ज़िम्मेदारी” अभियान एक शस्त्र  के रूप में साबित होगा, यह प्रतिपादन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किया। मुंबई महापालिका को छोड़कर मुंबई महानगर प्रदेश के महापालिका एवं नगरपालिकाओं के लोकप्रतिनिधियों से वीडियो कॉन्फ़्रेसिंग के द्वारा मुख्यमंत्री ठाकरे ने संवाद साधा। इस संवाद में नगरविकास मंत्री एकनाथ शिंदे, ठाणे के महापौर नरेश म्हस्के, राज्य के मुख्य सचिव संजय कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सलाहकार अजोय मेहता, प्रधान सचिव स्वास्थ्य डॉ. प्रदीप व्यास, प्रधान सचिव नगरविकास महेश पाठक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान संचालक डॉ. एन. रामस्वामी, ठाणे के मनपा आयुक्त बिपीन शर्मा समेत मुंबई महानगर प्रदेश के महापालिका, नगरपालिका के लोकप्रतिनिधि, मनपा आयुक्त, मुख्याधिकारी शामिल हुए। इस संवाद बैठक में मुख्यमंत्री आगे कहा कि राज्य में 15 सितंबर से “मेरा परिवार मेरी ज़िम्मेदारी” यह अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत प्रत्येक नागरिक के स्वास्थ्य की जांच की जाएगी, साथ ही कोरोना के खिलाफ की लड़ाई में जो ध्यान रखना है, उन बातों को लेकर जनजागरण किया जाएगा। राज्य का जनजीवन सुचारु रूप से चल रहा है, लेकिन इस दौरान कोरोना की शृंखला को तोड़ना जरूरी है। हालांकि हमें कोरोना के साथ जीवन जीना सीखना होगा और हमारे जीवनशैली में परिवर्तन करना होगा। इस बात को लेकर जनता में भी जनजागरण करना महत्वपूर्ण है। जिसके लिए यह अभियान महत्वपूर्ण है। लोकप्रतिनिधि, प्रशासन ने गाफ़िल न रहते हुए अंतिम मनुष्य तक इसे पहुंचाना है। प्रत्येक व्यक्ति ने अपनी ज़िम्मेदारी को पहचानते हुए अपने परिवार को सुरक्षित करने से ही हमारा महाराष्ट्र भी सुरक्षित होगा। यह समय हर किसी के लिए जिंदगी का टर्निंग पॉईंट है और भविष्य में आनेवाले महामारी के संकट के लिए जनता को तैयार करने का काम भी इस अभियान के तहत होगा। इस दौरान नगरविकास मंत्री शिंदे ने कहा कि “मेरा परिवार मेरी ज़िम्मेदारी” यह अभियान कोरोना को सीमापार करने के लिए अंतिम प्रहार है। इस अभियान के तहत प्रत्येक परिवार तक पहुँचकर कोरोना के खिलाफ़ की लड़ाई में स्व:रक्षा की उपाययोजनाओं का महत्व भी बताया जाएगा। सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक वह स्वास्थ्य सुविधाओं का निर्माण करने का काम किया है। अब जनसहभागिता से कोरोना शृंखला को तोड़ने के लिए हमें प्रयास करना है। इसी प्रयास के एक भाग के रूप में यह अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान सभी ने सफलतापूर्वक पूरा करने पर अन्य राज्यों के लिए भी यह अनुकरणीय साबित होगा। महीने भर राज्यों में जहां पर यह अभियान सफलतापूर्वक चलाया जाएगा, उस परिसर में निश्चित ही कोरोना का प्रसार नियंत्रण में ला सकेंगे, यह मुख्यमंत्री के प्रधान सलाहकार अजोय मेहता ने कहा। मुख्य सचिव संजयकुमार ने इस योजना के माध्यम से विकसित होनेवाला मॉडेल आगामी दिनों में संक्रमित बीमारी का उद्भव होने पर उससे लड़ने तथा निपटने के लिए मार्गदर्शक साबित होगा, यह विश्वास व्यक्त किया। इस संवाद बैठक में स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रदीप व्यास ने योजना के क्रियान्वयन की संक्षिप्त में रुपरेषा बताई।