मुंबई में 'शिक्षण वारी' कल से

 26 Nov 2018  1634

मुंबई, (26 नवंबर २०१८)- छात्रों के सर्वांगीण विकास में शिक्षकों और माता-पिता दोनों की भूमिका महत्वपूर्ण है। स्कूल प्रबंधन समिति मुख्य रूप से अभिभावकों का प्रतिनिधित्व करती है। यदि स्कूल प्रबंधन समिति जैसी संस्था अगर सक्षम है, तो स्कूल के विकास में सामुदायिक भागीदारी में बढ़ोतरी होगी। यह शिक्षकों और अभिभावकों की बीच बेहतर संवाद कायम करती है और विद्यार्थियों के विकास में इसका सौ फीसदी उपयोग करने में सक्षम होंगे। इस उद्देश्य के लिए, इस वर्ष मुंबई में गुणवत्ता प्रबंधन के लिए स्कूल प्रबंधन समितियों को सशक्त बनाने के लिए 'शिक्षण वारी' का आयोजन किया गया है। मुंबई में, एम.एम.आर.डी.ए. के मैदान, बी.के.सी., बांद्रा (पूर्व) में 28 से 30 नवंबर, 2018 तक आयोजित किया जा रहा है।

‘शिक्षण वारी’ का यह लगातार चौथा वर्ष है। अब तक आयोजित किए गए शिक्षण की वारी में करीब एक लाख शिक्षक, अभिभावक व शिक्षाप्रेमी नागरिक विभिन्न अभिनव प्रयोग का लाभ लेते हैं। इससे पहले पुणे, औरंगाबाद, नागपुर, अमरावती, नासिक और रत्नागिरी जैसे स्थानों पर सफलतापूर्वक आयोजन के बाद अब मुंबई, कोल्हापुर, वर्धा, नांदेड और जलगांव में शिक्षण वारीका आयोजन किया जा रहा है। इस चरण में पहला शिक्षण वारी मुंबई में एम.एम.आर.डी.ए. मैदान, बी.के.सी, बांद्रा (पूर्व) में 28 नवंबर 2018 से 30 नवंबर 2018 की अवधि के दौरान होगा। मुंबई के वारी में रायगड, पालघर, ठाणे, मुंबई उपनगर और मुंबई शहर जैसे जिले में विद्यालय प्रबंधन समिति के सदस्य एवं शिक्षकों की मुलाकात होगी। दोपहर 2 बजे से शाम छह बजे तक सभी शिक्षा प्रेमियों के लिए शिक्षण वारी खुली रहेगी।

विद्यालय विकास नीति और विद्यालय प्रबंधन समिति संरचना, अभिभावकों की पाठशाला में अध्यापन में, कौशल्य विकास में मदद, किशोरवयों के लिए आरोग्य शिक्षा,  पाठशालाओं में उपस्थित बढ़ाने के लिए कार्यान्वित किए गए क्रार्यक्रम,  जनसहभागिता, पाठशाला पोषण आहार,  प्रवासी और स्कूल के बाहर के बच्चों को शिक्षा का प्रवाह पर अमल के लिए समिति की सहभागिता, स्वच्छ भारत-स्वच्छ विद्यालय, दिव्यांग बच्चों को शिक्षा, गणित एवं भाषा पठन विकास, कृतियुक्त विज्ञान,  तकनीकी का अध्यापन में प्रभावी उपयोग, कला, कार्यानुभव और खेल विषय संबंधी कार्यक्रम के उपयोग जैसे आयोजन होंगे।

इस अभिनव शैक्षणिक प्रयोग की जानकारी सभी को हो। अध्यापक और विद्यालय प्रबंधन समिति के सदस्यों को इस प्रयोग को स्वीकार करें। वे अनुभव लेने। इस शिक्षण वारी के आयोजन का यही मुख्य उद्देश्य है। इस चरण में दूसरी शिक्षण वारी कोल्हापुर में 10 ते 12 दिसंबर 2018, तीसरी वारी वर्धा में 3 ते 6 जनवरी 2019, चौथी वारी नांदेड में 29 से 31 जनवरी 2019 और पांचवी वारी जलगांव में 15 से 17 फरवरी 2019 को आयोजित की जाएगी।